POLITICS

किसान आंदोलन के समर्थन में उतरे नवजोत सिंह सिद्धू, अपने घरों पर लहराए काले झंडे

Spread the love


कांग्रेस के पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने कृषि कानून के विरोध में चल रहे किसान आंदोलन का समर्थन किया है।

नई दिल्ली। पूर्व क्रिकेटर और कांग्रेस के पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ( Navjot singh Sidhu ) ने कृषि कानून ( New Farm Laws ) के विरोध में चल रहे किसान आंदोलन ( Farmer Protests ) का समर्थन किया है। नवजोत सिंह ने किसानों के समर्थन में अपने घर पर काले झंडे लगाए हैं। पंजाब के पूर्व मंत्री सिद्धू ने ये झंडे अपने पटियाला और अमृतसर स्थित दोनों घरों पर लगाए है। सूत्रों की मानें तो सिद्धू इस दिन को काला दिवस के रूप में मना रहे हैं। वहीं, पंजाब में काला दिवस की तैयारियां जोरों पर हैं। लोग किसान प्रदर्शन के समर्थन और सरकार के विरोध में काले कपड़े और काले झंडे सिलवा रहे हैं।

क्या Covid Vaccine का तीसरा डोज भी लेना होगा जरूरी? बूस्टर डोज पर काम कर रही कई कंपनियां

दरअसल, कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने सोमवार को ट्वीट कर इसकी जानकारी दी थी। सिद्धू ने ट्वीट में कहा था कि वह किसान आंदोलन के समर्थन में अपने घर पर काला झंडा लहराएंगे। इसके साथ ही उन्होंने पंजाब के लोगों से भी ऐसा करने की अपील की थी। सिद्धू ने ट्वीट में आगे लिखा था कि मैं कि सान आंदोलन के समर्थन में अपने अमृतसर और पटियाला स्थित दोनों घर पर कल यानी मंगलवार को सुबह 9.30 बजे काले झंडे लहराऊंगा। उन्होंने लिखा कि तब तक काले कानूनों को वापस नहीं लिया जाता तब तक अन्य लोग भी ऐसा ही करें और राज्य सरकार के माध्यम से न्यूनतम समर्थन मूल्य दिए जाने की मांग करे।

COVID-19: कहीं आपके फ्रिज में तो मौजूद नहीं ‘ब्लैक फंगस’? हो जाएं सावधान

CM केजरीवाल बोले- कुछ नहीं बिगाड़ पाएगी कोरोना की तीसरी लगर अगर कर लिया यह काम

आपको बता दें कि भारतीय किसान यूनियन की पंजाब ईकाई ने दावा किया है कि किसान आंदोलन के समर्थन में पंजाब के किसान भारी तदाद में दिल्ली बॉर्डर के लिए कूच कर रहे हैं। बताया गया कि कृषि कानूनों के विरोध में जारी किसानों के इस आंदोलन को 26 मई को पूरे छह महीने हो जाएंगे। इसलिए किसान 26 मई को काला दिवस के रूप में मनाएंगे और इसके लिए संगठन के आह्वान पर दिल्ली के लिए कूच कर रहे हैं। आपको बता कि यूपी, हरियाणा और पंजाब के किसान पिछले छह महीनों से नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं। सरकार से कृषि कानून वापसी की मांग पर अड़े किसानों ने गाजीपुर बॉर्डर, सिंघू बॉर्डर और टीकरी बॉर्डर पर जाम लगाया हुआ है। वहीं, सरकार झुकने को तैयार नहीं है। हालांकि सरकार ने किसानों की मांग मानने के क्रम में कानूनों में संशोधन की बात जरूर कही है।











Source link


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *