POLITICS

पीएम मोदी के साथ कश्मीरी नेताओं की बैठक से पहले महबूबा के खिलाफ प्रदर्शन, जानिए क्या है मामला

Spread the love


पीएम मोदी की अगुवाई में गुरुवार को जम्मू-कश्मीर को लेकर बैठक होनी है, इसमें 8 दल के 14 नेता शामिल होंगे। इससे पहले जम्मू-कश्मीर में पीडीपी चीफ महबूबा मुफ्ती के खिलाफ प्रदर्शन शुरू हो गया है

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( PM Narendra Modi ) की अगुवाई में आज जम्मू-कश्मीर ( Jammu Kashmir ) को लेकर बैठक होनी है। इसमें विभिन्न 8 राजनीतिक दलों के 14 नेता शामिल होंगे। इस बीच जम्मू-कश्मीर और एलओसी पर 48 घंटे का अलर्ट जारी किया गया।

इस बीच बैठक से ठीक पहले कश्मीर में महबूबा मुफ्ती ( Mehbooba Mufti ) के खिलाफ प्रदर्शन शुरू हो गया है। वहीं फारूख अब्दुल्ला बैठक में हिस्सा लेने के लिए दिल्ली रवाना हो गए हैं। बताया जा रहा है कि वे 12.30 बजे तक दिल्ली पहुंच जाएंगे।

यह भी पढ़ेंः पीएम मोदी और जम्मू-कश्मीर के नेताओं के बीच बैठक आज, इन मुद्दों पर हो सकती है चर्चा

पाकिस्तान की वकालत से बढ़ी मुश्किल
पीएम मोदी के साथ होने वाली सर्वदलीय बैठक से पहले जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के खिलाफ जोरदार विरोध प्रदर्शन हो रहा है। ये प्रदर्शन महबूबा के पाकिस्तान को लेकर दिए गए बयान के खिलाफ हो रहा है।

दरअसल महबूबा मुफ्ती ने 22 जून को गुपकर एलायंस की बैठक के बाद कहा था कि सरकार को कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान से बात करनी चाहिए।

डोगरा फ्रंट ने जम्मू में पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी की प्रमुख महबूबा मुफ्ती के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। एक प्रदर्शनकारी का कहना है, “यह विरोध मुफ्ती के उस बयान के खिलाफ है जो उन्होंने गुपकर की बैठक के बाद दिया था कि पाकिस्तान कश्मीर मुद्दे में एक हितधारक है। उन्हें सलाखों के पीछे डाल दिया जाना चाहिए।
मुफ्ती को तिहाड़ जेल में डाले जाने की तस्वीरों को लेकर प्रदर्शनकारी हाय-हाय के नारे लगाते रहे।

बीजेपी हेडक्वार्टर पर नड्डा के साथ नेताओं की बैठक
पीएम मोदी के साथ बैठक से पहले जम्मू-कश्मीर के तमाम बीजेपी नेताओं के साथ भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा मीटिंग कर रहे हैं। इसके लिए कविंद्र गुप्ता, रवींद्र रैना समेत कई नेता बीजेपी मुख्यालय पहुंच गए हैं। बताया जा रहा है कि इस मीटिंग में बीजेपी के रुख को लेकर चर्चा होगी।

370 के मुद्दे को अलग रखना चाहिएः अजमेर दीवान
अजमेर दरगाह के दीवान सैयद जैनुल आबेदीन अली खान ने जम्मू कश्मीर के सभी राजनीतिक नेताओं से अनुच्छेद 370 के मुद्दे को अलग रखने की बात कही है। इसके साथ ही उन्होंने केंद्र शासित प्रदेश के विकास के लिए केंद्र के साथ काम करने का आह्वान भी किया है।

खान की यह टिप्पणी अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान खत्म करने के बाद जम्मू कश्मीर पर पहली सर्वदलीय बैठक से एक दिन पहले आई है।

कांग्रेस के 3 नेता बैठक में लेंगे हिस्सा
पीएम मोदी के साथ बैठक से पहले कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि ‘हम सर्वदलीय बैठक में हीं अपना रूख रखेंगे जब बैठक में हमारे सामने एजेंडा रखा जाएगा। क्योंकि अभी तक हममें से किसी को कोई एजेंडा नहीं दिया गया है। उन्होंने बताया कि उनके अलावा कांग्रेस से गुलाम अहमद मीर और ताराचंद भी इस बैठक में शामिल होंगे।

यह भी पढ़ेंः प्रधानमंत्री की बैठक से पहले यह जानना जरूरी, जम्मू-कश्मीर को पूर्ण राज्य का दर्जा वापस मिलने में अभी लगेगा लंबा वक्त

बीजेपी का ये रुख
पूर्व डिप्टी सीएम और बीजेपी नेता कविंद्र गुप्ता ने कहा, पीएम मोदी की इस पहल का स्वागत करते हैं। चर्चा के बाद जम्मू-कश्मीर में नई परिस्थितियां बनेंगी। हम चाहते हैं कि जो परिसीमन हो उसमें जम्मू और कश्मीर दोनों के साथ इंसाफ हो।

बहाल हो राज्य का दर्जा

जम्मू और कश्मीर नेशनल पैंथर्स पार्टी के अध्यक्ष भीम सिंह भी पहुंचे दिल्ली। उन्होंने कहा ‘मैं  यहां हूं क्योंकि मुझे आमंत्रित किया गया है (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में शामिल होने के लिए)। जम्मू और कश्मीर का राज्य का दर्जा बहाल किया जाना चाहिए। 

फारूख दिल्ली रवाना

इससे पहले नेशन कॉन्फ्रेंस प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री फारूख अब्दुल्लाह भी पीएम मोदी के साथ होने वाली सर्वदलीय बैठक में हिस्सा लेने के लिए दिल्ली रवाना हुए।















Source link


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *