LIFESTYLE

‘लेडी सिंघम’ आत्महत्या : दीपाली चव्हाण-मोहिते की मौत के बाद वन अधिकारी को किया निलंबित, लगे थे कई बड़े आरोप

Spread the love


25 मार्च के दिन दीपाली ने अपने घर पर आत्महत्या कर ली थी और आत्महत्या करने की वजह भारतीय वन सेवा के वरिष्ठ अधिकारी को बताया था।

नई दिल्ली। ‘लेडी सिंघम’ के नाम से चर्चित दीपाली चव्हाण-मोहिते की मौत के बाद राजनीति में भी उथलपुथल देखने को मिल रही है। 25 मार्च के दिन दीपाली ने अपने घर पर आत्महत्या कर ली थी और आत्महत्या करने की वजह भारतीय वन सेवा के वरिष्ठ अधिकारी को बताया था। उनकी मौत के बाद अब महाराष्ट्र सरकार ने मंगलवार को भारतीय वन सेवा अधिकारी को निलंबित कर दिया है। वन अधिकारी दीपाली चव्हाण ने आत्महत्या करने से पूर्व अपने नोट में पूर्व अतिरिक्त प्रधान मुख्य वन संरक्षक एवं मेलघाट टाइगर रिजर्व (एमटीआर) के पूर्व क्षेत्रीय निदेशक एमएस रेड्डी का नाम लिया था जिन्हें निलंबित कर दिया गया है।

लेडी सिंघम की आत्महत्या के बाद महिला एवं बाल कल्याण मंत्री यशोमति ठाकुर ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को फोन किया और एक ज्ञापन सौंपकर इस मामले में शामिल उन लोगों पर कड़ी कार्रवाई की मांग की जो दीपाली के गुनहगार थे।

बता दें कि शुक्रवार को अमरावती पुलिस ने आईएफओएस अधिकारी बी. विनोद शिवकुमार को रेलवे स्टेशन के पास गिरफ्तार कर लिया था। वह नागपुर से बेंगलुरू भागने की योजना बना रहा था बाद में राज्य सरकार ने इसे निलंबित कर दिया, क्योंकि इस घटना ने सरकार और नौकरशाही को लेकर खलबली मचा दी थी।

हंसमुख स्वभाव की रहने वाली 28 वर्षीय रेंज फॉरेस्ट ऑफिसर चव्हाण-मोहिते जहां एक ओर गरीबों के लिए नम्र स्वभाव की थीं, तो वहीं दुश्मनों के लिए वो एक काल बनकर टूट पड़ती थीं इसी के कारण लोग उन्हें लेडी सिंघम के नाम से जानते थे। उनकी बहादुरी की चर्चा काफी होने के चलते ही वो उच्चाधिकारियों की नजर में खटकने लगी थीं। और एक दिन ऐसा आया कि इसी बहादुर महिला ने अपने ऊपर हो रहे अत्याचार के चलते खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी, उन्होंने एक सुसाइड नोट में रेड्डी शिवकुमार पर भी कई गंभीर आरोप लगाए थे। रेड्डी पर यौन उत्पीड़न, यातना, वित्तीय नुकसान और मानसिक आघात जैसे आरोप लगाए गए हैं, जिसके कारण महिला अफसर को पिछले महीने गर्भपात का सामना करना पड़ा।

बता दें कि दीपाली चव्हाण-मोहिते एक साहसी महिला था उन्हें बुलेट मोटरसाइकिल चलाना पसंद था उन्होनें कई बार पेड़ों की कटाई कर रहे तस्करों को खदेड़ा था।







Source link


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *