LATEST NEWS

Coronavirus की उत्पत्ति को लेकर अमेरिकी रिपोर्ट का बड़ा दावा, इस बात पर लगाई मुहर

Spread the love


नई दिल्ली: हाल ही में एक अध्ययन में कहा गया था कि कोरोना वायरस चीन में वुहान की एक लैब में बना था. अब अमेरिका की एक रिपोर्ट में भी इस बात पर मुहर लगा दी गई है. अमेरिका ने अपनी इस रिपोर्ट में कहा है कि कोविड-19 वायरस वुहान की लैब से ही लीक हुआ होगा ऐसी संभावना है.

वुहान की लैब से लीक हुआ वायरस

वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट के मुताबिक, कोविड-19 की उत्पत्ति पर इस रिपोर्ट में अमेरिकी यूएस गर्वमेंट की नेशनल लेबोरेट्री ने कहा है वायरस वुहान की एक चाइनीज लैब से लीक हुआ, ऐसा संभव हो सकता है और इसकी आगे जांच की जरूरत है. 

बता दें कि कोरोना वायरस की उत्पत्ति को लेकर ये अध्ययन मई 2020 में कैलिफोर्निया की लॉरेंस लिवरमोर नेशनल लैबोरेटरी ने किया था.

ट्रंप के हटने से ठीक पहले स्टेट डिपार्टमेंट की तरफ से वायरस के मूल स्त्रोत को लेकर जांच करने के आदेश दिए थे. लॉरेंस लिवरमोर का अध्ययन कोविड-19 वायरस के जीनोमिक एनालिसिस पर आधारित है.

हालांकि लॉरेंस लिवरमोर ने वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट पर कमेंट करने से इनकार किया है.

राष्ट्रपति जो बाइडेन ने पिछले महीने कहा था​ कि उन्होंने कोरोना वायरस की उत्पत्ति कैसे हुई इसका जवाब ढूंढने के लिए अपने सहयोगियों को आदेश दिए हैं.

अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जैक सुलिवन ने कहा कि कोविड-19 की उत्पत्ति के बारे में जानकारी देने और पारदर्शिता बनाए रखने के लिए अमेरिका अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ मिलकर चीन पर दबाव बनाना जारी रखेगा.

उन्होंने कहा, ‘हम अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ मिलकर चीन पर यह दबाव बनाना जारी रखेंगे कि वह पारदर्शिता बरते, आंकड़े एवं सूचना देने के लिए तैयार रहे. अगर चीन इसमें शामिल नहीं होगा तो ऐसा नहीं होगा कि हम उसकी बात को मान लेंगे.

कोरोना वायरस की उत्पत्ति

इस बीच विदेश मंत्री टोनी ब्लिंकन ने कहा कि कोरोना वायरस की उत्पत्ति को लेकर दो  बातें हो सकती हैं, पहला यह कि वायरस प्रयोगशाला से निकला है और दूसरा यह कि वायरस प्राकृतिक रूप से पैदा हुआ.

सदन की विदेशी मामलों की समिति के सदस्य स्टीव चाबोट के एक सवाल के जवाब में ब्लिंकन ने कहा कि जो कुछ हुआ, उसकी तह तक जाने के लिए राष्ट्रपति जो बाइडन ने विस्तृत समीक्षा के आदेश दिए हैं. उन्होंने कहा कि प्रारंभिक समीक्षा मार्च में शुरू हुई थी, जो निष्कर्ष निकले उनके मुताबिक इन्हीं दो में से कोई एक बात हो सकती है. उन्होंने सरकार से कहा है कि 90 दिन के भीतर वह खूब गहराई में जाए और हमारे पास जो कुछ भी है उसका पता करे.

चीन करता आया है इनकार

 

पूर्व राष्ट्रपति राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के पद पर रहने के दौरान एक यूएस इंटेलिजेंस रिपोर्ट में ये खुलासा किया गया था कि चीन के वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी में तीन वैज्ञानिक नवंबर 2019 में गंभीर रूप से बीमार थे और उन्हें अस्पताल में एडमिट कराया गया था. 

यूएस इंटेलिजेंस एजेंसियों का ये भी कहना था कि या तो ये वायरस सं​क्रमित जानवरों से इंसानों में आया या फिर ये लैबोरेटरी में किसी एक्सीडेंट की वजह से लीक हुआ. हालांकि अमेरिकी एजेंसियां इसे लेकर किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंची थी. 

अमेरिकी अधिकारियों ने चीन पर वायरस की उत्पत्ति को पारदर्शिता के आभाव के आरोप भी लगाए हैं जिससे चीन इनकार करता आया है.





Source link


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *