LATEST NEWS

Coronavirus ने बदल दिया हज यात्रा का तरीका, इन नियमों का करना होगा पालन

Spread the love


मक्का: हज (Hajj) यात्रा पर लगातार दूसरे साल कोरोना वायरस (Coronavirus) के साए के बीच रविवार को हजारों मुस्लिम तीर्थयात्री इस्लाम के सबसे पवित्र स्थल मक्का के आसपास एकत्रित हुए. हालांकि इस दौरान वे एक दूसरे से दूरी बनाए हुए और मास्क लगाए दिखे. कोविड-19 से पहले जहां दुनियाभर से लगभग 25 लाख मुस्लिम हज यात्रा पर आते थे, वहीं पहले की तुलना में इस बार इनकी संख्या लगभग न के बराबर है.

5 दिन तक चलती है हज यात्रा

कोविड-19 के चलते इन दो वर्षों में न केवल सऊदी अरब से बाहर के लोगों के लिए इस्लाम के इस अरकान को पूरा करने की कसक बाकी रही है. बल्कि इससे सऊदी अरब को हर साल होने वाली अरबों डॉलर की आमदनी भी प्रभावित हुई. हजयात्रा लगभग 5 दिन तक चलती है, लेकिन परंपरागत रूप से मुसलमान समय से हफ्तों पहले मक्का पहुंचना शुरू कर देते हैं. हज का समापन ईद-अल-अजहा के त्योहार के साथ होता है, जिसे दुनिया भर के गरीबों के बीच मांस के वितरण के लिए जाना जाता है.

ये भी पढ़ें:- सोमवार के दिन चालाकी इन राशि के जातकों पर पड़ेगी भारी, हो सकता है बड़ा नुकसान

इस साल किए गए अलग इंतजाम

इस साल, टीका लगाए हुए 60 हजार से ज्यादा सऊदी नागरिकों या निवासियों को हज की अनुमति दी गई है. यह संख्या पिछले साल प्रतीकात्मक हज करने वालों की तुलना में बहुत अधिक है. पिछले साल सऊदी अरब में रह रहे केवल एक हजार लोगों ने ही हज किया था. कोविड-19 के चलते इस बार हज के लिए अलग इंतजाम किए गए हैं. काबा के आसपास सैनिटाइजेशन के लिए रोबोट तैनात किए गए हैं. इसके अलावा स्मार्ट ब्रेसलेट के जरिए लोगों की जांच की जा रही है. इस ब्रेसलेट के जरिए हज यात्री के ऑक्सीजन स्तर और टीकाकरण संबंधी जानकारी का पता लगाया जाता है. साथ ही इसके जरिए आपात स्थिति में मदद भी मांगी जा सकती है.

ये भी पढ़ें:- जिंदा एक्टर को बताया Dead, सूचना देने के बाद यूट्यूब ने दिया अजीब जवाब

दिन में कई बार होगा सैनिटाइजेशन

इसके अलावा सफाईकर्मी दिन में कई बार मस्जिद अल हरम की सफाई और सैनिटाइजेशन का काम करते हैं. इसी मस्जिद के अंदर काबा स्थित है. जीवन में कम से कम एक बार किया जाने वाला हज इस्लाम के सबसे महत्वपूर्ण स्तंभों में से एक है. इस दौरान, पैगंबर मोहम्मद के जीवन से जुड़े स्थलों की यात्रा की जाती है. हज को गुनाहों से तौबा करने और मुसलमानों के बीच एकता का पैगाम देने का अवसर माना जाता है.

LIVE TV





Source link


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *