SPORTS

Yuvraj Singh ने माना- मामूली खिलाड़ी नहीं हैं Virat Kohli, 30 की उम्र में ये कारनामा करना मुश्किल

Spread the love


नई दिल्ली: इस बात में कोई शक नहीं है कि मौजूदा दौर में विराट कोहली (Virat Kohli) दुनिया के सबसे बेहतरीन बल्लेबाजों में शुमार किए जाता है. अपने करियर में उन्होंने कई वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम किए है. अब युवराज सिंह (Virat Kohli) ने ‘किंग कोहली’ की तारीफों के पुल बांधे हैं.

काफी बेहतर हुए हैं कोहली

युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने इस बात को याद दिलाया है कि विराट कोहली (Virat Kohli) अपने पहले इंटरनेशल मैच से लेकर अब तक काफी उभर चुके हैं. उन्होंने अंडर-19 वर्ल्ड कप में भारत को चैंपियन बनाया, इसके ठीक बाद साल 2008 में उन्होंने वनडे क्रिकेट में डेब्यू किया, वो साल 2011 का वर्ल्ड कप भी खेले, लेकिन तब तक वो टीम इंडिया में अपनी जगह पक्की कर चुके थे.
 

यह भी पढ़ें- शोएब अख्तर ने चुनी अपनी ऑल टाइम वनडे XI, भारत के इस टॉप क्रिकेटर को रखा बाहर
 

विराट में कई खासियत

युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने कहा है कि अपने करियर के शुरुआती दौर में ही विराट कोहली (Virat Kohli) को लेजेंड करार दिया गया था क्योंकि उनमें कई सारी खासियत थी. वो लगातार रन बनाने लगे, खुद को हालात के हिसाब से ढालने और उभरने में माहिर हो गए.

 

कम उम्र में काफी कुछ हासिल किया

युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने कहा, ‘वो काफी रन बनाने लगे थे और फिर कप्तान बन गए. कभी-कभी आप फंस जाते है, लेकिन जब वो कप्तान बने तो उनकी कंसिस्टेंसी और बेहतर हो गए. करीब 30 साल की उम्र में ही उन्होंने काफी कुछ हासिल कर लिया था.’

’30 साल में लेजेंड बने कोहली’

युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने कहा, ‘लोग रिटायरमेंट के वक्त लेजेंड बनते हैं. 30 की उम्र वो लेजेंड बन चुके हैं. उन्हें एक क्रिकेटर के तौर पर उभरते हुए देखना बेहतरीन है. मैं उम्मीद करता हूं कि जब वो ऊंचे लेवल पर करियर को खत्म करेंगे, क्योंकि उनके पास काफी वक्त है.’
 

‘मेहनती हैं कोहली’

युवराज सिंह (Yuvraj Singh) का मानना है कि विराट कोहली (Virat Kohli) वक्त के साथ बेहतर होते जा रहे हैं, ये टीम इंडिया (Team India) के मौजूदा कप्तान की कड़ी मेहनत और अनुशासन का नतीजा है. विराट कड़ी ट्रेनिंग में यकीन रखते हैं.

‘डाइट को लेकर अनुशासित’

युवराज ने कहा, ‘मैंने उनको उभरते हुए देखा है. वो शायद सबसे ज्यादा मेहनत करते है, वो अपनी डाइट को लेकर बेहद अनुशासित हैं. ट्रेनिंग को लेकर काफी सख्त हैं. जब वो रन बनाते हैं, तो ऐसा लगता है कि वो दुनिया के सबसे बेहतरीन बल्लेबाज बनना चाहते हैं. इसी एटीट्यूड के साथ वो आगे बढ़ते हैं.’
 





Source link


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *